National Anthem & Pray

National Anthem

जन गण मन अधिनायक जय हे
भारत भाग्य विधाता।
पंजाब सिन्ध गुजरात मराठा
द्रविड़ उत्कल बंग।
विंध्य हिमाचल यमुना गंगा
उच्छल जलधि तरंग।
तव शुभ नामे जागे
तव शुभ आशीष मागे।
गाहे तव जयगाथा।
जन गण मंगलदायक जय हे
भारत भाग्य विधाता।
जय हे, जय हे, जय हे
जय जय जय जय हे॥


प्रार्थना

हम को मन की शक्ति देना, मन विजय करें।
दूसरोंकी जय से पहले, खुदकी जय करें।
हम को मन की शक्ति देना .......
भेद-भाव अपने दिलसे, साफ़ कर सकें,
दूसरोंसे भूल हो तो, माफ़ कर सकें ।
झूठ से बचे रहें, सचका दम भरें,
दूसरोंकी जयसे पहले, खुदकी जय करें।
हम को मन की शक्ति देना ……
मुश्किलें पड़ें तो हमपे, इतना कर्म कर,
साथ दें तो धर्म का, चलें तो धर्म पर,
खुदपे हौसला रहे, बदी से ना डरें,
दूसरोंकी जयसे पहले, खुदकी जय करें ।
हम को मन की शक्ति देना .......